Sunday, 4 November 2012

इंतज़ार ..


 सुरसा की बहन है
इंतज़ार ...
यह अनंत तक  जाने वाली रेखा जैसी है
जवानी  जैसी ख्त्म होने वाली नहीं ..

कहते हैं ..
इंतज़ार की घड़ियाँ लम्बी होती हैं
ख़त्म  भी होती है
फिर तुरंत शुरू भी हो जाती हैं /

इंतज़ार ...
एक प्यास की तरह है
जो बुझ तो जाती है
फिर तुरंत शुरू हो जाती है

बहुत लोग
इंतज़ार करते है
अच्छे और अनुकूल समय का
ठीक उसी तरह  ,, जैसे
उलटी गिनती गिन रहे वैज्ञानिक
दबा  देते है बटन
अन्तरिक्ष यान का ..


23 comments:

  1. दो सामानांतर रेखाओं की तरह ,,,,सुंदर कवित्त बबन जी

    ReplyDelete
  2. sursa ki bahan hi hai intajaar

    ReplyDelete
  3. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

    ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

    ReplyDelete
  4. विचारणीय पंक्तियां....

    ReplyDelete
  5. कहते हैं ..
    इंतज़ार की घड़ियाँ लम्बी होती हैं
    ख़त्म भी होती है
    फिर तुरंत शुरू भी हो जाती हैं !

    बहुत खूबसूरत...
    एकदम हकीकत की तरह...!

    ReplyDelete
  6. इंतजार कभी ख़त्म हुआ है भला ...
    बहुत सही लिखा है आपने
    सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  7. सच है इंतज़ार की घड़ियाँ ख़त्म होते ही शुरू हो जाती हैं, इंतज़ार...इंतज़ार...इंतज़ार... जीत भी और हार भी. सुन्दर रचना, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. इंतज़ार ...
    एक प्यास की तरह है
    जो बुझ तो जाती है
    फिर तुरंत शुरू हो जाती है.

    हकीकत है. गहरी सोच.

    ReplyDelete
  9. इंतज़ार... कभी ख़त्म नहीं होती, एक को पाते ही दूसरे का... गंभीर मनन, बधाई.

    ReplyDelete
  10. intjaar gahari soch ko ek disha pradan karti hai

    ReplyDelete
  11. aur kabhi ye intzar kabhi khatm nahi hota leel jata hai poora jeevan .vakai gambheer kavita .

    ReplyDelete
  12. अच्छे समायु का इंतज़ार नहीं उसको हाथ बड़ा के चीन जाता है समय से ....
    भावमय प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  13. a very interesting comparison of Intjaar with Surasa. Gr8

    ReplyDelete
  14. rachna ji ki baat se sahmat hun.
    sach~kabhi- kabhi intjaar bhi ek junun sa ban jata hai-----------
    poonam

    ReplyDelete
  15. सच इंतज़ार कभी ख़त्म नहीं होता ..एक के बाद एक आता जाता है ...
    बहुत गम्भीर भाव

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छी प्रस्तुति...दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@जब भी जली है बहू जली है

    ReplyDelete
  17. विरह में जो रोया नहीं है उसका प्रेम अधूरा है।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  19. आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    ReplyDelete
  20. माँ सरस्वती की कृपा हमेशा बनी रहे

    ReplyDelete