Friday, 5 October 2012

यौवन की नौका


अपने यौवन की नौका को देख
मैं मंद-मंद मुस्काता हूँ
नहीं डूबेगी कभी यह नौका
यह सोच-सोच इठलाता हूँ //

काम-क्रोध और लोभ-मोह की
लहरें उठ रही यौवन में
ये सब दुर्गुण कहाँ थे मुझे में
अठखेली भरती बचपन में //

बचपन की नौका ,कब डूब गई
कोई कुछ समझ न पाया
यौवन की नौका भी डूबेगी
तब शायद मर जाए माया //

9 comments:

  1. बचपन की नौका समय ने छीन ली है
    और हम दिन-प्रतिदिन समय के चंगुल में फसते जा रहे हैं !
    भाव पूर्ण रचना!

    ReplyDelete
  2. बात तो आपकी सही है, भाई...........
    डूबनी तो जरुर है एक दिन हर नैया !
    समझा जाते तो लोग यूँ न रोते भैया !!

    ReplyDelete
  3. सार्थक और गंभीर रचना---

    ReplyDelete
  4. निष्काम बचपन से योवन में आते ही तरह तरह के चक्रों कुचक्रों में फंस जाता है इंसान. गंभीर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  5. काम-क्रोध और लोभ-मोह की
    लहरें उठ रही यौवन में
    ये सब दुर्गुण कहाँ थे मुझे में...........मुझ में ...............
    अठखेली भरती बचपन में //

    बहुत बढ़िया रचना लाए हो पांडे जी .दर्शन लिए जीवन और जगत का ...

    माया तेरे तीन नाम परसी पर्सा परशराम .आदमी माया को नहीं छोड़ता माया ही आदमी को छोड़ जाती है कबीर बहुत पहले चेता गए थे -माया महा ठगनी हम जानी ,तिरगुन फांस लिए करि जोरे ,बोले मधुरि.. वाणी .......

    ReplyDelete
  6. bahut sunder prastuti,,,,man ke vicharon ki uttal tarange,,,jo man ke manas patal par prashno ki deerdhaa banatee huyeemm

    ReplyDelete
  7. सोचने को मजबूर करती सार्थक रचना |

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब....
    यथार्थवादी.....

    ReplyDelete
  9. अपने यौवन की नाव देख
    मैं मंद , मंद मुस्काता हूँ
    न डूब सके मेरी नौका
    मैं सोच, खूब इठलाता हूँ !!

    शुभकामनायें !

    ReplyDelete